कॉमनवेल्थ गेम्स 2022: भारत के इन 5 खिलाड़ियों पर सबकी नजर

WhatsApp Image 2022-07-22 at 11.15.33 AM
Share

कॉमनवेल्थ गेम्स 2022 के शुरू होने में अब महज कुछ दिन बाकी हैं. यह टूर्नामेंट 28 जुलाई से बर्मिंघम में खेला जाएगा. कॉमनवेल्थ गेम्स में भारत की 322 सदस्यीय टीम हिस्सा ले रही है. भारतीय ओलंपिक संघ ने इस दल में 215 खिलाड़ियों और 107 अधिकारी और सपोर्ट स्टाफ को शामिल किया है.

इंग्लैंड में होने वाले कॉमनवेल्थ गेम्स यानी राष्ट्रमंडल खेलों के लिए भारतीय खिलाड़ी जोश और आत्मविश्वास से भरे हुए हैं. इन खेलों के अधिकांश संस्करणों में भारत पदक तालिका में शीर्ष 10 स्थान हासिल करने में कामयाब रहा है. इस बार भी भारतीय एथलीट इस टूर्नामेंट में अपना दबदबा बनाने की कोशिश करेंगे. हम आपको यहां देश के ऐसे 5 खिलाड़ियों के बारे में बताएंगे जिनसे लोगों को काफी उम्मीदें रहेंगी और उनके उपर सबकी नजर टिकी रहेगी.

चैंपियन नीरज चोपड़ा गोल्ड के दावेदार
24 वर्षीय भारतीय खिलाड़ी नीरज चोपड़ा जबर्दस्त लय में चल रहे हैं. वह टोक्यो में इतिहास रचने के बाद दिन प्रतिदिन असाधारण प्रदर्शन कर रहे हैं. टोक्यो में इतिहास रचने के बाद वह वैश्विक खेल जगत में खासा लोकप्रिय भी हो गए हैं. उन्होंने टोक्यो ओलंपिक 2020 में कई बाधाओं से लड़ते हुए स्वर्ण पदक अपने नाम किया था. इसके बाद से उन्हें देश में गोल्डन बॉय के रूप में जाना जानें लगा है. चोपड़ा से लोगों को एक बार फिर काफी उम्मीदें बंध गई हैं. भारतीय स्टार के मौजूदा प्रदर्शन को देखते हुए यह उम्मीद लगाई भी जा सकती है.

मीराबाई चानू की नजर लगातर दूसरे गोल्ड पर
भारतीय महिला भारोत्तोलक सैखोम मीराबाई चानू ने राष्ट्रमंडल खेलों में दो पदक अपने नाम किए हैं. पहले पहल उन्होंने साल 2014 ग्लासगो कॉमनवेल्थ गेम्स में रजत पदक फिर 2018 गोल्ड कोस्ट गेम्स में स्वर्ण पदक अपने नाम किया. स्टार महिला खिलाड़ी इस प्रतियोगिता के आगामी संस्करण में भी अपने शीर्ष प्रदर्शन को जारी रखने के लिए काफी उत्सुक होंगी.

टोक्यो ओलंपिक में मीराबाई चानू ने अदम्य शाहस का परिचय देते हुए 49 किग्रा भार वर्ग में रजत पदक अपने नाम किया. वह भारोत्तोलन में ओलंपिक खेलों में रजत पदक हासिल करने वाली देश की पहली महिला एथलीट हैं. ऐसे में लोगों को उनसे आगामी टूर्नामेंट में पदक की काफी उम्मीदें हैं, और वह इसमें सक्षम भी हैं.

सुपरहिट सिंधु ने अपना बेस्ट दिया तो गोल्ड पक्का
प्रसिद्ध भारतीय शटलर और मौजूदा समय में दुनिया की 7वें नंबर की खिलाड़ी पीवी सिंधु से आगामी टूर्नामेंट में लोगों को काफी उम्मीदें हैं. वह ओलंपिक खेलों में लगातार दो पदक जीतने वाली भारत की दूसरी व्यक्तिगत एथलीट हैं. उन्होंने देश के लिए टोक्यो ओलंपिक में चीनी महिला शटलर बिंग जिओ को मात देते हुए कांस्य पदक अपने नाम किया था. हाल ही में उन्होंने थाईलैंड की बुसानन ओंगबामरुंगफान को हराकर स्विश ओपन का खिताब अपने नाम किया है.

ओलंपिक मेडल जीत चुकी लवलीना से फिर उम्मीद
महिला बॉक्सर लवलीना बोर्गोहिन ने टोक्यो ओलंपिक में कांस्य पदक जीतकर खुद से लोगों की काफी उम्मीदें बढ़ा दी हैं. वह आगामी टूर्नामेंट में भी अपने अच्छे प्रदर्शन को जारी रखना चाहेंगी. मौजूदा समय में वह देश के लिए पुरुष बॉक्सर विजेंद्र कुमार (2008) व एम सी मैरीकॉम (2012) के बाद बाक्सिंग मे ओलंपिक पदक जीतने वाली तीसरी एवं महिला खिलाड़ियों में दूसरी खिलाड़ी हैं.

ओलंपिक मे सिल्वर जीतने वाले रवि दहिया से चाहिए गोल्ड
स्टार भारतीय पहलवान रवि दहिया ने टोक्यो ओलंपिक के फ्रीस्टाइल 57 किग्रा भार वर्ग में रजत पदक हासिल करते हुए इतिहास रच दिया था. लोगों को उनसे आगामी टूर्नामेंट में एक और पदक की काफी उम्मीदें हैं. उन्होंने राजधानी दिल्ली में आयोजित राष्ट्रीय चयन ट्रायल में अपना मैच जीतकर बर्मिंघम में राष्ट्रमंडल खेलों के लिए क्वालीफाई किया है. एशियाई कुश्ती चैंपियनशिप 2022 का 35वां संस्करण मंगोलिया के उलानबटार में आयोजित किया गया था. यहां उन्होंने अपनी श्रेणी में स्वर्ण पदक जीता था. यह पदक निश्चित रूप से उन्हें बर्मिंघम में बेहतरीन प्रदर्शन करने के लिए उत्साहित करेगा….News18

Leave a comment