राजस्थान में अवैध खनन के खिलाफ आत्मदाह करने वाले संत की मौत

WhatsApp Image 2022-07-23 at 10.32.28 AM
Share

भरतपुर के पसोपा इलाके में चल रहे अवैध खनन को लेकर धरने के बीच खुद को आग लगाने वाले संत विजय दास का नई दिल्ली में देर रात 3 बजे निधन हो गया। वह सफदरजंग हॉस्पिटल की बर्न यूनिट में एडमिट थे। संत को क्रिटिकल हालत में दो दिन पहले ही जयपुर से शिफ्ट कराया गया था। संत ने 20 जुलाई को आत्मदाह किया था। 22 जुलाई की रात उन्होंने अंतिम सांस ली।

संत का पार्थिव शरीर नई दिल्ली से यूपी के बरसाना लाया जाएगा, जहां उनकी 3 साल की पोती को संत के अंतिम दर्शन कराए जाएंगे। इसके बाद उनका आज अंतिम संस्कार किया जाएगा। खनन के खिलाफ संत समाज का धरना-प्रदर्शन करीब 500 दिन से चल रहा था। एक बाबा मोबाइल टावर पर भी जा बैठे थे। जब विजय दास ने खुद को आग लगा ली तब प्रशासन ने उनकी मांगें मानी और समझा-बुझाकर आंदोलन खत्म कराया।

हरियाणा के रहने वाले थे बाबा विजय दास
संत विजय दास हरियाणा में फरीदाबाद जिले के बडाला गांव के रहने वाले थे। साधु बनने से पहले से पहले उनका नाम मधुसूदन शर्मा था। एक हादसे में उनके बेटे और बहू की मौत हो गई थी। इसके बाद परिवार में बाबा और उनकी एक पोती बचे थे। अब सिर्फ पोती रह गई।

12 साल पहले आए थे बरसाना के मान मंदिर
बेटे और बहू की मौत के बाद वह अपनी पोती को लेकर उत्तर प्रदेश के बरसाना के मान मंदिर आ गए थे। संत विजय दास ने अपनी पोती दुर्गा को गुरुकुल में डाल दिया था। वह संत रमेश बाबा के संपर्क में आए और साधु संतों की मंडली में शामिल हो गए। नया नाम मिल गया- बाबा विजयदास। फिर 2017 में वह धार्मिक मान्यता वाले आदिबद्री और कनकांचल इलाके में खनन को रोकने के लिए शुरू हुए आंदोलन से जुड़ गए।

डेढ़ साल पहले बाबा को बनाया गया महंत
उन्हें डेढ़ साल पहले पसोपा गांव के पशुपति नाथ मंदिर का महंत बनाया गया। उनके पास मंदिर प्रबंधन की पूरी जिम्मेदारी थी। दिल्ली में पोस्टमार्टम के बाद दोपहर तक उनका पार्थिव शरीर बरसाना लाया जाएगा। निधन की खबर मिलते ही बरसाना में शोक का माहौल हो गया। साधु-संत पहुंचने लगे हैं।

पसोपा में होना था अंतिम संस्कार, प्रशासन की अपील पर बरसाना के लिए माना संत समाज
बाबा का अंतिम संस्कार भरतपुर के पसोपा में किया जाना था, लेकिन प्रशासन ने आज रीट परीक्षा का हवाला देकर साधु-संतों और गांववालों से बरसाना में अंतिम संस्कार करने की अपील की। इस पर संत समाज की एक बैठक हुई और बरसाना में अंतिम संस्कार पर सहमति बनी। क्योंकि बाबा विजय दास कई वर्षों से बरसाना के मान मंदिर में भी रहे थे। बाबा करीबी संत राधाकृष्ण शास्त्री ने बताया कि अंतिम संस्कार बरसाना में मान मंदिर के पास ही होगा। वहीं, भरतपुर जिला प्रशासन ने पसोपा से साधु-संतों और ग्रामीणों को बरसाना ले जाने के लिए 10 बसों की व्यवस्था की है।….bhaskar

Leave a comment