लालू यादव की हालत में नहीं हो रहा सुधार, शाम को एयर एंबुलेंस से दिल्ली AIIMS ले जाया जाएगा

WhatsApp Image 2022-07-06 at 1.32.35 PM
Share

राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव को इलाज के लिए आज शाम एयर एम्बुलेंस से दिल्ली AIIMS ले जाया जाएगा। वह पिछले तीन दिन से पटना के पारस हॉस्पिटल के ICU में भर्ती हैं। हॉस्पिटल के मेडिकल सुपरीटेंडेंट डॉ. आशिफ रहमान ने बताया कि उनकी हालत स्थिर है। डॉक्टरों की टीम आज यह भी देखेगी कि दिल्ली ले जाने में किसी तरह की कठिनाई तो नहीं होगी।मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और लालू के बेटे तेजस्वी-तेजप्रताप पारस अस्पताल पहुंचे हैं। वे लालू से मुलाकात कर रहे हैं।

बिहार के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडे ने अस्पताल जाकर लालू के परिवार और डॉक्टर्स से बात की थी। उन्होंने लालू को बेहतर इलाज के लिए दिल्ली भेजने और एयर एंबुलेंस मुहैया कराने की बात कही थी।

तेजस्वी ने अपील- अस्पताल न आएं, जहां हैं वहीं से दुआ करें
नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने लालू प्रसाद के शुभचिंतकों से अपील की- ‘हम सभी पारस अस्पताल में हैं। लालू प्रसाद का यहां इलाज चल रहा है। हम सभी से अपील कर रहे हैं कि आप लोग अस्पताल न आएं और अपनी जगह पर रहकर ही दुआ करें।’

मोदी, सोनिया ने भी की स्वस्थ होने की कामना
लालू प्रसाद की सेहत की जानकारी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार लगातार ले रहे हैं। लालू प्रसाद के शुभचिंतक लगातार उनके जल्द स्वस्थ्य होनी की कामना कर रहे हैं। लालू प्रसाद की बेटी रोहिणी आचार्या ने ट्वीट किया था- ‘हर बाधाओं से जिसने पाई है मुक्ति, करोड़ों लोगों की दुआएं हैं जिनकी शक्ति।’

दर्द दूर करने की दवाओं ने बढ़ाई लालू की बेचैनी
लालू प्रसाद रविवार को राबड़ी देवी के सरकारी आवास 10 सर्कुलर रोड के अपने कमरे में जाते समय सीढ़ी पर गिर पड़े थे और उसके दाएं कंधे में फ्रैक्चर हो गया था। साथ ही कमर में भी काफी चोट आई थी। तत्काल इलाज किया गया, लेकिन दर्द दूर करने की दवाओं ने उनकी बेचैनी रविवार की रात काफी बढ़ा दी।

उन्हें सोमवार की सुबह साढ़े तीन बजे पटना के पारस हॉस्पिटल में भर्ती कराना पड़ा था। तब से वे पारस में लगातार आईसीयू में ही हैं। सांस लेने में कठिनाई होने पर उन्हें ऑक्सीजन भी लगाना पड़ता है। कई बार वे बेहोशी की अवस्था में भी चले गए। वे किडनी, हार्ट, ब्लड सुगर आदि कई गंभीर बीमारियों से ग्रस्त हैं। ऐसे मरीज को दर्द की दवाएं देने पर दिक्कत आ जाती है।….bhaskar

Leave a comment