मप्र: निशांक राठौर की मौत के मामले में नया ट्विस्ट, ‘चाइनीज ऐप्स’ का जाल बन गया काल?

WhatsApp Image 2022-07-28 at 12.31.36 PM
Share

मध्य प्रदेश के रायसेन जिले में रेलवे ट्रैक पर कटे मिले इंजीनियरिंग स्टूडेंट निशांक राठौर की मौत की गुत्थी बेहद उलझी हुई है। अब तक यह साफ नहीं हो पाया है कि निशांक की हत्या की गई या फिर उसने आत्महत्या की। पुलिस शुरुआत से ही इसे खुदकुशी मान रही है, लेकिन निशांक की मौत से कुछ देर पहले ही उसके पिता को फोन पर मिले ‘सर तन से जुदा’ वाले मैसेज ने कई सवाल उठा दिए। अब इस केस में नया ट्विस्ट आ गया है। बताया जा रहा है कि निशांत लोन देने वाले कुछ जाइनीज ऐप के जाल में फंस गया था। एसआईटी अब इस एंगल से भी पड़ताल में जुटी है।

एक मीडिया रिपोर्ट में दावा किया गया है कि निशांक ने सस्ते ब्याज पर लोन देने का वादा करने वाले कई चाइनीज लोन से उधार लिया था। उसने करीब 17-18 कंपनियों से पैसा उधार लिया था। अब इन ऐप्स की ओर से उस पर वसूली को लेकर दबाव बनाया जा रहा था। बताया जा रहा है कि निशांक इस वजह से काफी दबाव में था। सूत्रों के हवाले से यह भी कहा गया है कि भोपाल में इंजीनियरिंग करते हुए उसने कुछ दोस्तों से भी उधार लिया था। इससे पहले पुलिस ने भी शुरुआती जांच के बाद कहा था कि निशांक ने शेयर बाजार और क्रिप्टो करेंसी में भी निवेश किया था और इसमें उसे घाटा लगा था।

कुछ सवाल अभी भी कायम
हालांकि, चाइनीज ऐप की थ्योरी यदि सच भी हो तो यह सवाल अब भी कायम है कि ‘सर तन से जुदा’ वाला मैसेज निशांक के फोन से किसने भेजा। यदि यह माना जाए कि निशांक ने ही यह मैसेज भेजा तो और भी बड़ा सवाल यह है कि खुदकुशी से पहले उसे झूठी कहानी रचने की क्या जरूरत थी? मौत के बाद लोन-उधार की बात उजागर होने से भी क्या फर्क पड़ने वाला था? वह क्यों नहीं चाहेगा कि उसे खुदकुशी के लिए मजबूर करने वालों का सच सामने आए।

क्यों भरवाया 400 रुपए का पेट्रोल?
मौत से कुछ देर पहले ही निशांक ने एक पेट्रोल पंप से अपनी स्कूटी में 400 रुपए का पेट्रोल भरवाया था। इस पेट्रोल पंप से 7 किलोमीटर दूर ही उसका शव मिला था। सवाल यह उठता है कि यदि निशांक आत्महत्या के लिए निकला था तो उसने 400 रुपए का पेट्रोल क्यों भरवाया। पेट्रोल पंप पर वह सीसीटीवी में कैद हुआ है और उस वक्त तक वह बेहद सामान्य दिख रहा है।…..livehindustan

Leave a comment