मप्र में 50 करोड़ रूपए में स्थापित होगी भगवान राम की सबसे ऊंची प्रतिमा

WhatsApp Image 2022-08-01 at 1.00.31 PM
Share

गुना में भगवान राम की सबसे ऊंची प्रतिमा आकार ले रही है। इसकी ऊंचाई 111 फीट रहेगी। प्रतिमा पुरापोसर स्थित 150 फीट ऊंची पहाड़ी राम टेकरी पर स्थापित की जाएगी। राम टेकरी के हनुमान मंदिर के प्रोजेक्ट पर करीब 50 करोड़ रुपए खर्च होंगे। इस मूर्ति की लागत 1 करोड़ रुपए से ज्यादा आएगी। यह 6 महीने में बनकर तैयार हो जाएगी।

पंचायत मंत्री महेंद्र सिंह सिसोदिया का यह ड्रीम प्रोजेक्ट है। काम भी शुरू हो गया है। खास बात है कि जिस दिन 5 अगस्त को अयोध्या में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राम मंदिर का भूमिपूजन किया, उसी दिन गुना में भी इस काम की शुरुआत हुई थी। मंत्री ने बताया कि मंदिर की प्रेरणा उन्हें एक स्वप्न से मिली थी। उस समय उन्हें मंत्री पद भी नहीं मिला था। इसी से अभिभूत होकर पहले टेकरी पर लाइट का इंतजाम कराया था। इसके बाद भगवान राम की प्रतिमा लगाने का निर्णय लिया।

गुना टूरिज्म के नक्शे पर आएगा
पंचायत मंत्री ने बताया कि इसके तैयार होने के बाद टूरिज्म के नक्शे पर गुना का नाम भी आ जाएगा। इससे यहां टूरिज्म गतिविधियां बढ़ेंगी। इससे आर्थिक विकास भी होगा। प्रोजेक्ट पर 50 करोड़ रुपए खर्च होंगे। इसके तहत राम टेकरी के आसपास हाट बाजार, पंचवटी भी डेवलप किए जाएंगे। प्रोजेक्ट में तीन साल से ज्यादा का समय लगेगा। वर्तमान में प्रदेश में सबसे ऊंची प्रतिमा जबलपुर के बरगी नगर में मां काली की है। इसकी ऊंचाई 108 फीट है।

ग्वालियर में प्रतिमा हो रही तैयार
प्रोजेक्ट से जुड़े सदस्यों ने बताया कि ग्वालियर में मूर्ति कला केंद्र में मूर्तिकार प्रभात राय प्रतिमा को तैयार कर रहे हैं। इससे पहले उन्होंने भगवान हनुमान की अष्टधातु की प्रतिमा भी बनाई थी। इसे मेटल कोटेड फाइबर से तैयार किया जा रहा है। इसमें रेसिन (राल) भी रहेगा। इसका वजन करीब 10 टन रहेगा।

अब तक ये निर्माण हुए
प्रोजेक्ट शुरू होते ही राम टेकरी पर निर्माण कार्य शुरू हो गए। वर्तमान में टेकरी पहुंच मार्ग का काम चल रहा है। रिटर्निंग वॉल का निर्माण पूरा हो चुका है। इसके अलावा प्रतिमा के लिए बेस बनाना भी शुरू हो गया है। प्रतिमा के लिए करीब 20 फीट ऊंचा बेस बनाया जाएगा।

ऐसे पहुंच सकते हैं
जिला मुख्यालय से राम टेकरी पहुंचने के लिए कई रास्ते हैं। शहर से बूढ़े बालाजी, सकतपुर गांव होते हुए यहां पहुंचा जा सकता है। ग्वालियर की तरफ से आने वाले दो खंभा नाके से बायपास होते हुए जा सकते हैं। भोपाल, इंदौर की तरफ से आने वाले लोग टोल नाका, बायपास होते हुए राम टेकरी तक पहुंच सकते हैं।

मूर्तिकार प्रभात राय ने ये मूर्तियां बनाईं
– देश की सबसे ऊंची (66 फीट) 108 टन वजनी (बैठक मुद्रा में) हनुमानजी की प्रतिमा इंदौर में लगी है। यह मूर्ति 12 करोड़ रुपए में बनकर तैयार हुई।
– दुनिया का पहली अष्टधातु से निर्मित 13वां ज्योतिर्लिंग गुजरात में स्थापित है।
– 11 टन वजनी 12 मुखी शिवलिंग जयपुर में स्थापित है।
– 36 फीट ऊंची और 7 टन वजनी राजा भोज की मूर्ति भोपाल में स्थापित है।
– 32 फीट ऊंची और 17 टन वजनी रानी कमलापति की मूर्ति भोपाल में लगाई गई है।
– बंदा बहादुर और उनके 5 साथियों की मूर्तियां चंडीगढ़ में लगी हैं। यह दुनिया की प्रमुख 10 सिख मूर्तियों में से एक है।
– देश ही पहली साढ़े पांच फीट ऊंची वाल्मीकि की गोल्ड प्लेटेड मूर्ति भी बनाई है।
– महाराजा रंजीत सिंह की मूर्ति फ्रांस के सेंट टॉपेज में लगाई गई है।

Leave a comment